For News (24x7) : 9829070307
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
Visitors - 95048642
Horizon Hind facebook Horizon Hind Twitter Horizon Hind Youtube Horizon Hind Instagram Horizon Hind Linkedin
Breaking News
Ajmer Breaking News: जल संसाधन मंत्री सुरेश सिंह रावत ने सुनी समस्याएं, दिए समाधान के निर्देश |  Ajmer Breaking News: राजगढ़ धाम पर नवस्थापित देवप्रतिमाओं को लगाया 56 भोग |  Ajmer Breaking News: पुष्कर सरोवर में आज किया स्वच्छता अभियान संत निरंकारी फाउण्डेशन - स्वच्छ जल-स्वच्छ मन परियोजना  |  Ajmer Breaking News: हाई टेंशन विद्युत लाइन के पिलर पर चढ़ा युवक , लगभग एक घंटे तक चली जान देने की धमकी का ड्रामा, |  Ajmer Breaking News: पीसांगन के फतेहपुरा में पिकअप सवार तीन चोरों ने किया सिंगल फेस ट्रांसफार्मर चोरी का असफल प्रयास,जाग होने पर चोर भागे,लेकिन अखेपुरा से चुराया ट्रांसफार्मर |  Ajmer Breaking News: जीआरपी थाना पुलिस ने अजमेर रेलवे स्टेशन पर गश्त के दौरान 14 किलो चांदी के जेवरात सहित एक व्यक्ति को किया डिटेन 102 सीआरपीसी में चांदी के जेवरात किये जप्त, अनुसंधान जारी |  Ajmer Breaking News: नाबार्ड, एसएफएससी एवं ओएनडीसी के सहयोग से अजमेर में तीन दिवसीय तरंग सेलिब्रेटिंग कलेक्टिविज़ेशन मेले का आयोजन किया जा रहा है। |  Ajmer Breaking News: माघ पूर्णिमा के पावन अवसर पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु पवित्र सरोवर में लगाए आस्था की डुबकी |  Ajmer Breaking News: 24 फरवरी 2024,को भाजपा शहर जिला अजमेर के ओबीसी मोर्चा द्वारा भाजपा द्वारा चलाए जा रहे नमो एप डाउनलोड अभियान के तहत आज युवाओं से विभिन्न स्थानों पर नमो एप डाउनलोड करवाया गई |  Ajmer Breaking News: मोबाइल वेटरनरी यूनिट का लोकार्पण समारोह आज जिला कलेक्टरेट परिसर मे आयोजित किया गया | 

अंदाजे बयां: समय दुश्वारियां गिनवा रहा था, कई मजबूरियाँ गिनवा रहा था।

Post Views 3891

July 3, 2021

चमन में पेड़ काटे जा रहे थे, मगर वो तितलियाँ गिनवा रहा था।

समय दुश्वारियां गिनवा रहा था,
कई मजबूरियाँ गिनवा रहा था।
चमन में पेड़ काटे जा रहे थे,
मगर वो तितलियाँ गिनवा रहा था।
जो सदियों बाद फिर से जब मिले हम,
वो अपनी उँगलियाँ गिनवा रहा था।
हुआ था उससे भी इक बार मिलना,
समय जब पसलियाँ गिनवा रहा था।
उसे मौसम की नज़रें डस रही थीं,
शजर जो पत्तियाँ गिनवा रहा था।
उधर माँ गिन रही थी बेटियों को,
ससुर जब अर्थियां गिनवा रहा था।
मैं वापस लौट आया प्यास लेकर,
वो दरिया मछलियाँ गिनवा रहा था।
        सुरेन्द्र चतुर्वेदी


© Copyright Horizonhind 2024. All rights reserved