For News (24x7) : 9829070307
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
Visitors - 82834496
Horizon Hind facebook Horizon Hind Twitter Horizon Hind Youtube Horizon Hind Instagram Horizon Hind Linkedin
Breaking News
Ajmer Breaking News: तेजा दशमी पर इस साल भी रहा कोरोना का ग्रहण, नहीं भरा तेजाजी मंदिर पर मेला |  Ajmer Breaking News: चित्रकूट अखण्ड आश्रम की रसोई में निकला विषैला स्पेक्टिकल कोबरा सांप |  Ajmer Breaking News: पुरानी मंडी सोलथम्बा धर्मशाला के पीछे जर्जर मकान की दीवार ढही |  Ajmer Breaking News: 2 अक्टूबर से लगने वाले प्रशासन शहरों के संग अभियान की सफलता पर संदेह |  Ajmer Breaking News: झूलेलाल मंदिर डिग्गी चौक के पीछे खड़ी मारुति ईको कार से अज्ञात चोरों ने चुराया साइलेंसर |  Ajmer Breaking News: रामगंज थाने में दो अलग-अलग चोरी के मुकदमे दर्ज |  Ajmer Breaking News: जिला प्रमुख सुशील कंवर पलाडा,ने जनसुनवाई में प्राप्त प्रकरणों के तत्काल निस्तारण के दिये निर्देश |  Ajmer Breaking News: पुलिस मुख्यालय व पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर दरगाह थाने में खुली जनसुनवाई का शुरू हुआ आयोजन |  Ajmer Breaking News: आवासीय नक्शे पर व्यवसायिक निर्माण के खिलाफ निगम टेन ए नोटिस देने के बावजूद नहीं कर रहा कार्रवाई |  Ajmer Breaking News: अखिल भारतीय गाड़िया लोहार विकास समिति के बैनर तले लोहारों को पट्टे देने की मांग | 

उदयपुर न्यूज़: मरीज बोला- इलाज के बाद मेरे पैर काटने की नौबत, अब मुझसे पैसे लो और डॉक्टर का पैर काटने दो

Post Views 331

July 29, 2021

मेवाड़ हॉस्पिटल की लापरवाही, मरीज ने एसपी और कलेक्टर को की शिकायत

उदयपुर। इलाज के बाद मेरे पैर काटने की नौबत आ गई है, अब मुझसे पैसे लो और डॉक्टर का पैर काटने दो। ये शब्द हैं उस मरीज के जो मेवाड़ हॉस्पिटल में इलाज में लापरवाही का शिकार बना। मरीज ने एसपी और कलेक्टर को भी शिकायत की है। हॉस्पिटल पर यह भी आरोप है कि इस मरीज से 54 हजार लेकर भी इलाज में लापरवाही तो बरती ही, साथ ही बिना डिस्चार्ज टिकट दिए ही मरीज को बाहर निकाल दिया गया।

दरअसल, यह शिकायत गोगुंदा निवासी लक्ष्मीलाल तेली ने की। शिकायत के अनुसार लक्ष्मीलाल को पैर में हल्की सूजन थी। गांव के डॉक्टर से इलाज के बाद भी जब सूजन ठीक नहीं हुई तो वह उदयपुर आया और यहां दो बड़े हॉस्पिटल में जांच कराई, दोनों हॉस्पिटल में एक्सरे कराया, जिसमें फ्रेक्चर जैसी कोई बात नहीं थी। लेकिन मेवाड़ हॉस्पिटल में उससे ऑपरेशन करने की बात कही गई। यही नहीं लक्ष्मीलाल के अनुसार उसका कोई ऑपेरशन नहीं किया गया, फिर भी 54 हजार रुपए ले लिए गए और पैर भी बेकार कर दिया। अब पैर काटने की नौबत आ गई है।

लक्ष्मीलाल ने पत्रकारों को बताया कि श्रीनाथ और जेके हॉस्पिटल में पहले दिखाया था, उन्होंने फ्रेक्चर से मना किया था और कहा था कि केवल सूजन है। उसके बात अपने रिश्तेदारों के कहने पर मैं मेवाड़ हॉस्पिटल में इलाज के लिए आया। यहां ऑपरेशन के लिए कहा गया, लेकिन आपरेशन नहीं करके केवल ग्लूकोज की बोतलें चढ़ाई और दवाई देते गए, इससे मेरा पैर और बिगड़ गया। मुझसे इलाज के नाम पर 54 हजार रुपए ले लिए। उन्होंने कहा कि अब मैं इन पर कार्रवाई करूंगा। इलाज के बाद मेरे पैर काटने की नौबत आ गई है। अब मैं डॉक्टर को बोलता हूं कि 54 हजार तो क्या मुझसे 3 लाख रुपए लो, लेकिन मुझे डॉक्टर के पैर काटने दो।


© Copyright Horizonhind 2021. All rights reserved