For News (24x7) : 9829070307
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
Visitors - 82833422
Horizon Hind facebook Horizon Hind Twitter Horizon Hind Youtube Horizon Hind Instagram Horizon Hind Linkedin
Breaking News
Ajmer Breaking News: तेजा दशमी पर इस साल भी रहा कोरोना का ग्रहण, नहीं भरा तेजाजी मंदिर पर मेला |  Ajmer Breaking News: चित्रकूट अखण्ड आश्रम की रसोई में निकला विषैला स्पेक्टिकल कोबरा सांप |  Ajmer Breaking News: पुरानी मंडी सोलथम्बा धर्मशाला के पीछे जर्जर मकान की दीवार ढही |  Ajmer Breaking News: 2 अक्टूबर से लगने वाले प्रशासन शहरों के संग अभियान की सफलता पर संदेह |  Ajmer Breaking News: झूलेलाल मंदिर डिग्गी चौक के पीछे खड़ी मारुति ईको कार से अज्ञात चोरों ने चुराया साइलेंसर |  Ajmer Breaking News: रामगंज थाने में दो अलग-अलग चोरी के मुकदमे दर्ज |  Ajmer Breaking News: जिला प्रमुख सुशील कंवर पलाडा,ने जनसुनवाई में प्राप्त प्रकरणों के तत्काल निस्तारण के दिये निर्देश |  Ajmer Breaking News: पुलिस मुख्यालय व पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर दरगाह थाने में खुली जनसुनवाई का शुरू हुआ आयोजन |  Ajmer Breaking News: आवासीय नक्शे पर व्यवसायिक निर्माण के खिलाफ निगम टेन ए नोटिस देने के बावजूद नहीं कर रहा कार्रवाई |  Ajmer Breaking News: अखिल भारतीय गाड़िया लोहार विकास समिति के बैनर तले लोहारों को पट्टे देने की मांग | 

अजमेर न्यूज़:  संतो के चातुर्मास में मिल रहा प्रवचनो का लाभ

Post Views 91

July 29, 2021

पिपलिया बाजार स्थित श्री जैन स्थानक में

 संतो के चातुर्मास में मिल रहा प्रवचनो का लाभ​​​​​​​ पिपलिया बाजार स्थित श्री जैन स्थानक में धर्म सभा को संबोधित करते हुए–उपप्रवर्तिनी श्री राजमती जी म.सा.ने फरमाया कर्मों का भुगतान करते समय विद्या,धन,परिवार कोई सहयोगी नहीं बनता। व्यक्ति स्वयं कर्त्ता और स्वयं भोक्ता होता है। राजा हो या रंक सभी को जैसे कर्म किए वैसे फल अवश्य नसीब होते है। अशुभ कर्मों के उदय से गरीबी, तन का रोगी, सुखों का वियोगी होता है। अशुभ कर्मों को समभाव पूर्वक सहन करने से ही कर्मों की निर्जरा होती है तथा व्यक्ति आत्मिक सुख को प्राप्त करता है।डॉ.साध्वी राज रश्मि जी ने कहा सदधर्म की प्राप्ति के लिए इंद्रियों की पूर्णता, अविकल सबल शरीर होना आवश्यक है।चारित्र धर्म की प्राप्ति के लिए, अष्ट प्रवचन माताओं की आराधना के लिए इंद्रियों का सदुपयोग करना चाहिए। डॉ.साध्वी राजऋद्धि जी ने सुख विपाक सूत्र का विश्लेषण करते हुए स्वप्न की महत्ता,कालसर्प योग का कारण,शकुन विचार कितना उपयोगी पर विस्तृत जानकारी दी। संघ मंत्री पदम चंद  बंब ने बताया कि–पूज्या महासती जी महाराज के सान्निध्य में नियमित प्रार्थना, प्रवचन सुचारू रूप से गतिशील है। संघ में तपस्या का क्रम भी चल रहा है, और दर्शनार्थियों का आवागमन भी जारी है।


© Copyright Horizonhind 2021. All rights reserved