For News (24x7) : 9829070307
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
Visitors - 76929415
Horizon Hind facebook Horizon Hind Twitter Horizon Hind Youtube Horizon Hind Instagram Horizon Hind Linkedin
Breaking News
Ajmer Breaking News: ट्रक ने मारी थी मोटरसाइकिल को टक्कर  दो लोगों की   हुई मौत |  Ajmer Breaking News: राष्ट्रीय अल्पसंख्यक विभाग के नवनियुक्त कोऑर्डिनेटर हाजी फहीम अहमद न की दरगाह जियारत |  Ajmer Breaking News: मसूदा और  जवाजा पंचायत समितियों के चुनाव के लिए, मतदान दल हुए रवाना |  Ajmer Breaking News: राजस्थान की सीनियर भाजपा विधायक किरण माहेश्वरी हारी कोरोना से जंग , |  Ajmer Breaking News: गुरु नानक देव जी की मनाई गई, 551 वीं जयंती |  Ajmer Breaking News: चाचा ने की 10 साल की भतीजी से अश्लील हरकत |  Ajmer Breaking News: सर्व धर्म मैत्री संघ अजमेर द्वारा निकाली गई मास्क ही सुरक्षा है, रैली |  Ajmer Breaking News: मारुति कार के चोर को, पुलिस ने किया गिरफ्तार |  Ajmer Breaking News: शादी समारोह के दौरान, चोरी करने आए , चोर ने किया धारदार हथियार से पिता-पुत्र  पर वार |  Ajmer Breaking News: मीट की दुकान पर बेचे जा रहे थे गैर कानूनी तरीके से जंगली खरगोश व बटेर | 

राजस्थान न्यूज़: अजमेर में रावण दहन पर ग्रहण

Post Views 276

October 23, 2020

उम्मीद में बना दिए पुतले, लेकिन नहीं हो रही बिक्री

 हर साल दशहरे पर रावण, कुंभकरण और मेघनाद के पुतले बनाकर अपनी आजीविका चलाने वालों ने इस साल बिक्री की उम्मीद में पुतलों का निर्माण तो कर दिया, लेकिन अब तक बिक्री नहीं होने से कमाई तो दूर अब लागत निकालना ही मुश्किल हो गया है। बिक्री नहीं होने का कारण शहर के विभिन्न हिस्सों में रावण दहन के कार्यक्रम नहीं होना है। ऐसे में यह काम करने वाले परिवारों की चिन्ता बढ़ने लग गई है।




दशहरे पर होने वाले पुतलों की बिक्री को लेकर शहर के पुष्कर रोड, आनासागर चौपाटी के पास, माखुपुरा, आदर्श नगर, रामगंज आदि क्षेत्रों में पुतलों की बिक्री की जा रही है। जिले के विभिन्न गांवों से पुतला बनाने वाले कारीगर बीते दिनों से अजमेर में डेरा डाले हुए है और यहां पर पुतले बनाने का काम कर रहे थे।




इन कारीगरों ने यहां पर पुतलों का भारी भरकम स्टॉक भी जमा कर लिया। इनको उम्मीद थी कि दशहरे से दो चार दिन पहले पुतलों की बिक्री हो जाएगी और जो कमाई होगी, उससे परिवार का खर्चा निकल जाएगा। लेकिन अभी तक बिक्री नहीं होने से कारीगर और उनपर आश्रित परिवार की चिन्ता बढ़ने लग गई है।





पीसांगन निवासी गणपत जोगी, दुर्गालाल और संजय आदि ने बताया कि उन्होंने एक फुट से लेकर नौ फुट तक के पुतलों का निर्माण किया। करीब 70 हजार रुपए खर्च कर कई पुतलों का निर्माण किया। लेकिन, कोरोना के चलते आयोजन होने को लेकर ही संशय है और ऐसे में इनकी बिक्री अभी तक नहीं हुई है। पिछले साल बरसात के कारण ऐसे ही पुतले खराब हुए और अब कोरोना के चलते अब बिक्री नहीं होगी तो यह पुतले भी खराब ही होंगे।




कारीगरों ने बताया कि इन पुतलों को बनाने में कागज के पुट्‌ठे और बांस आदि से निर्माण किया गया है। यह पुतले अगले साल तक नहीं रुक सकते। अगर इस साल इनकी बिक्री नहीं हुई तो यह खराब ही होंगे। ऐसे में कमाना तो दूर, इस बार लागत निकालना भी भारी पड जाएगी। उन्होंने बताया कि पुतलों के निर्माण के लिए वे कर्ज लेकर आते है और पुतलों की बिक्री पर चुका देते है। ऐसे में अब कैसे कर्ज चुकाएंगे, कुछ समझ में नहीं आ रहा।


© Copyright Horizonhind 2020. All rights reserved