For News (24x7) : 9829070307
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
Visitors - 76929055
Horizon Hind facebook Horizon Hind Twitter Horizon Hind Youtube Horizon Hind Instagram Horizon Hind Linkedin
Breaking News
Ajmer Breaking News: ट्रक ने मारी थी मोटरसाइकिल को टक्कर  दो लोगों की   हुई मौत |  Ajmer Breaking News: राष्ट्रीय अल्पसंख्यक विभाग के नवनियुक्त कोऑर्डिनेटर हाजी फहीम अहमद न की दरगाह जियारत |  Ajmer Breaking News: मसूदा और  जवाजा पंचायत समितियों के चुनाव के लिए, मतदान दल हुए रवाना |  Ajmer Breaking News: राजस्थान की सीनियर भाजपा विधायक किरण माहेश्वरी हारी कोरोना से जंग , |  Ajmer Breaking News: गुरु नानक देव जी की मनाई गई, 551 वीं जयंती |  Ajmer Breaking News: चाचा ने की 10 साल की भतीजी से अश्लील हरकत |  Ajmer Breaking News: सर्व धर्म मैत्री संघ अजमेर द्वारा निकाली गई मास्क ही सुरक्षा है, रैली |  Ajmer Breaking News: मारुति कार के चोर को, पुलिस ने किया गिरफ्तार |  Ajmer Breaking News: शादी समारोह के दौरान, चोरी करने आए , चोर ने किया धारदार हथियार से पिता-पुत्र  पर वार |  Ajmer Breaking News: मीट की दुकान पर बेचे जा रहे थे गैर कानूनी तरीके से जंगली खरगोश व बटेर | 

अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़: ग्रे लिस्ट में ही रहेगा पाकिस्तान; एफएटीएफ का फैसला

Post Views 68

October 23, 2020

अंतरराष्ट्रीय संस्थानों से वित्तीय मदद हासिल करना अब होगा मुश्किल

 पाकिस्तान को वित्तीय कार्रवाई कार्य बल ने जबरदस्त झटका दिया। एफएटीएफ की बैठक में पाकिस्तान ग्रे लिस्ट में ही रखने का फैसला लिया। दरअसल, पाकिस्तान एफएटीएफ की कार्य योजना के 27 लक्ष्यों में से छह का अनुपालन करने में असफल रहा है। आतंकवाद के वित्तपोषण और धन शोधन को रोकने एवं निगरानी करने वाली पेरिस से संचालित संस्था की डिजिटल माध्यम से वार्षिक बैठक हुई। जिसमें 27 बिंदुओं की कार्य योजना की समीक्षा की गई। एफएटीएफ ने पाकिस्तान को जून 2018 में ग्रे सूची में डाला था और इस्लामाबाद को धन शोधन और आतंकवाद के वित्तपोषण को रोकने की 27 बिंदुओं की कार्य योजना को वर्ष 2019 के अंत तक लागू करने को कहा था। कोविड महामारी की वजह से यह आवधि बढा दी गई है।  कर्ज से दबे पाकिस्तान ने एफएटीएफ की ग्रे सूची से निकलने की कोशिश के तहत अगस्त महीने में 88 प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और उनके नेताओं पर वित्तीय पाबंदी लगाई थी। इनमें मुंबई हमले का सरगना और जमात-उद दावा प्रमुख हाफिज सईद, जैश-ए-मुहम्मद प्रमुख मसूद अजहर और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहीम भी शामिल है। पाकिस्तान के ग्रे सूची में बने रहने से उसके लिए विश्व मुद्रा कोष, विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक और यूरोपीय संघ जैसे अंतरराष्ट्रीय संस्थानों से वित्तीय मदद हासिल करना और मुश्किल हो जाएगा।


© Copyright Horizonhind 2020. All rights reserved